भीख मंगवाने के लिए 50 हज़ार में बच्चे को बेचा,पकड़ा गया बड़ा रैकेट….

संसार में बहुत सी अजीबोगरीब घटनाएं होती हैं और ऐसे में इस संसार मे इंसानियत से मनुष्य गिरता ही जा रहा है.वह कब कौन सी हद पार कर जाए अपने लालच के चलते कब कौन कितना गिरसकता है ये हम नहीं कह सकते.अब एक ऐसा मामला आया है महाराष्ट्र औरंगाबाद से जिसको सुनने के बाद आप भी हैरान रह जाएंगे तो आइए हम बात करते हैं क्या है पूरा मामला.

महाराष्ट्र के औरंगाबाद से एक हैरान कर देने वाली दिल को परेशान करने वाली खबर सामने आई है. कुछ महिलाओं के गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है पुलिस के द्वारा उनको गिरफ्तार भी किया गया है. खुलासा हुआ है कि यह महिलाएं बच्चों को खरीदने और उनसे भीख मंगवाने का काम करती थी.इस घटना के खुलासा होने के पश्चात स्थानीय इलाके में सनसनी फैल चुकी है.आजतक के रिपोर्टर के मुताबिक महाराष्ट्र के औरंगाबाद की मुकुंदवाडी में रहने वाली दो महिलाएं जाना बाई जादव और सविता पगारे मानव तस्करी का काम करते हुए पकड़ी गई हैं. इन दोनों महिलाओं पर आरोप है कि यह बच्चों को खरीदने और उनसे भीक मंगवा कर पैसे कमाती हैं.


इस मामले का खुलासा तब हुआ जब देव नाथ नाथ जी वीर नाम के एक सामाजिक कार्यकर्ता ने मुकुंदवाडी इलाके में स्थित एक घर के अंदर से बच्चे को रोने की आवाज सुनाई दी.आवाज सुनने पर देवनाथ नाथ जी वीर ने तहकीकात की और पता चला कि जो महिलाएं बच्चों को बेरहमी से पीट रही हैं इस बात का खुलासा होने पर पता चला कि यह बच्चे उन महिलाओं के नहीं हैं. इस बात की जानकारी तुरंत स्थानीय पुलिस को दी गई पुलिस ने तहकीकात करने पर पता किया कि इन दोनों बच्चों को महाराष्ट्र के अकोला और जालना से खरीद कर लाया गया था. बच्चों से पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि उनके माता-पिता  ने इन महिलाओं को उन्हें 2से 3 लाख में बेच दिया था. इन बच्चों को जाना बाई जाधव और सविता पगारे ने भीक मंगवाने के लिए खरीदा था.मुकुंदवाडी पुलिस ने दोनों ही महिलाओं को फौरन गिरफ्तार करके 3 दिन की हिरासत में भेज दिया है. देवनाथ नाथजी वीर का कहना है कि इन लोगों के साथ बहुत बड़ा रैकेट काम कर रहा है. जिसकी जल्द से जल्द तहकीकात की जानी चाहिए और पूरे रैकेट को पकड़ा जाना चाहिए.इसके साथ ही पुलिस ने लोगों को सतर्क करते हुए कहा कि अपने बच्चों को कहीं पर भी अकेला घूमने के लिए ना छोड़े इस गिरोह के और भी सदस्य अन्य कई इलाकों से सक्रिय  हो सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *