पूर्व कप्तान धोनी करते थे रेलवे में नौकरी, फिर ऐसे हुआ टीम इंडिया में सिलेक्शन, जानिये उनके परिवार और असल जिंदगी से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी

भारतीय क्रिकेट टीम के धुरंदर महेंद्र सिंह धोनी के चाहने वालो की कमी नहीं है,धोनी ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किये है,और आज जिस मुकाम पर है वो उनकी दिन रात की मेहनत का ही फल है, मैदान और मैदान के बाहर शांत संभाव के लिए जाने जाते है.तो कुछ ऐसे भी खिलाड़ी है जो एम एस धोनी को अपना आइडल मानते है. ऐसे में आज हम आपको इस लेख में धोनी से जीवन से जुड़ी कुछ अहम जानकारी देने वाले है. तो आइये दोस्तों जानते है एमएस धोनी से जुड़ी कुछ अहम बातें. माहि महेंद्र सिंह धोनी का जन्म रांची,बिहार में हुआ था जो एक हिंदू राजपूत परिवार से है. धोनी के गावं का नाम लवाली है. जो की त्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के लमगरा प्रखंड की जैंती तहसील में पड़ता है. धोनी के जन्म के कुछ समय बाद पिता काम के सिलसिले में रांची आए गए.


एमएस धोनी के बहुत से क्रिकेट दर्शको उनके बारे में जानना चाहते है,महेंद्र सिंह धोनी के पापा मेकॉन लिमिटेड कंपनी में जूनियर प्रबंधन पद पर एक पंप ऑपरेटर के रूप में काम करते थे. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान धोनी के पिता का नाम पान सिंह धोनी और माता का नाम देवकी देवी है जो की एक हाउसवाइफ है. धोनी के परिवार में एक बड़ा भाई भी है जिनका नाम नरेंद्र सिंह धोनी और एक छोटी बहन जिनका नाम जयंती गुप्ता है. धोनी का बड़ा भाई राह राजनीति नेता है और बहन एक इंग्लिश अध्यापक के पद पर कार्य कर रही है.शुरवात में इन्हें बैडमिंटन खेलना, फुटबॉल खेलना काफी ज्यादा पसंद था और वह अपने स्कूल की फुटबॉल टीम के एक बहुत ही बेहतरीन गोलकीपर भी थे।बता दें वर्ष 1995 से लेकर के 1998 तक कमांडो क्रिकेट क्लब टीम में रेगुलर विकेटकीपर भी रह चुके थे। और साल 1997 में धोनी को अंडर 16 चैंपियनशिप टीम में चुना गया था।

जब इन्होंने दसवीं कक्षा पास की तो धीरे धीरे इन्होंने क्रिकेट में रुचि रखना शुरू किया और क्रिकेट का खुमार इनपर इस तरह चढ़ा की इन्होंने अपनी शिक्षा को बीच में ही छोड़ दिया। हालांकि तब तक इन्होंने 12वीं की पढ़ाई पूरी कर ली थी और क्रिकेट में अपार मेहनत, लगन होने की वजह से वह आगे पढ़ाई जारी नहीं रख पाए।1998 के दशक में महेंद्र सिंह धोनी सिर्फ स्कूल स्तर पर और क्लब लेवल पर ही क्रिकेट खेलते थे और उसी दरमियान धोनी को सेंट्रल कोयला फील्ड लिमिटेड टीम की तरफ से खेलने का मौका प्राप्त हुआ।

इसके पश्चात आगे बढ़ते हुए वर्ष 1998 के दरमियान उन्हें East Zone U-19 टीम के लिए सिलेक्ट किया गया, जिसमें धोनी ने काफी बेहतर परफॉर्मेंस दी और इसके पश्चात वह रणजी ट्रॉफी में खेलने के लिए प्रयास करने लगे।

धोनी ने 3 जुलाई 2010 को साक्षी के साथ सगाई की थी. उसके एक दिन बाद यानि की 4 जुलाई 2010 को साक्षी सिंह रावत से शादी कर इस पवित्र बंधन में बंध गए.इसके साथ ही धोनी और साक्षी की प्यारी सी बेटी भी है जिनका नाम जीवा है.

Related Posts