Breaking News
Home / बॉलीवुड / ईशा देओल ने पिता धर्मेन्द्र के बारे में खुलासा करते हुए कहा – माँ और हम बहनों को रात में अकेला छोड़ जाते थे हमारे पिता.. जाने वजह

ईशा देओल ने पिता धर्मेन्द्र के बारे में खुलासा करते हुए कहा – माँ और हम बहनों को रात में अकेला छोड़ जाते थे हमारे पिता.. जाने वजह

दोस्तों आज का आर्टिकल शुरू करने से पहले हम आप को धर्मेंद्र और हेमा मालिनी की लव स्टोरी के बारे में बताते है की कैसे धर्मेंद्र ने चाणक्य निति वाली चाल चल कर के हेमा को हासिल किया,जब की उन दिनों हेमा मालिनी पर काफी दिग्गज अभिनेताओं की नज़र थी सभी यही चाहते थे की हेमा उन की जीवन संगिनी बने

धर्मेंद्र और हेमा की शादी को 39 साल बीत चुके हैं और दोनों की जोड़ी आज भी जबरदस्त लगती है,आज भी बसंती और वीरू की जोड़ी को देखने के लिए उनके चाहने वालो का सैलाब उमड़ जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं दोनों के लिए शादी कर हमेशा के लिए एक दूसरे का होना आसान नहीं था,70 के दशक में हेमा को तीन-तीन सुपरस्टार्स ने शादी के लिए प्रपोज किया था,उनकी शादी जीतेंद्र के साथ होनी थी, लेकिन आखिर में उन्होंने धर्मेद्र को जीवनसाथी के रूप में चुना,आइए जानते हैं कैसे कंप्लीट हुई धर्मेंद्र और हेमा मालिनी की लव स्टोरी…

70 के दशक में संजीव कुमार और हेमा मालिनी के अफेयर की खबरों ने खूब सुर्खियां बटोरीं,संजीव हेमा से मन ही मन प्यार करते थे लेकिन हेमा का नाम लगातार धर्मेंद्र से जोड़ा जा रहा था,वहीं हेमा के घरवाले दोनों के रिश्ते को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थे इसलिए संजीव कुमार ने अपने माता-पिता को हेमा मालिनी के घर शादी का प्रस्ताव लेकर भेज दिया लेकिन हेमा की मां ने ये कहकर रिश्ता करने से मना कर दिया कि उनकी बेटी की अभी शादी की उम्र नहीं है। जिसके बाद संजीव कुमार ने जितेंद्र को हेमा के घर शादी का प्रस्ताव लेकर भेजा.

हेमा को समझाने पहुंचे जितेंद्र का दिल उन पर आ गया,संंजीव को मना करने के बाद जितेंद्र को लगा कि हेमा मालिनी शायद उन्हें हां कह देंगी,उन्होंने भी हेमा को प्रपोज कर दिया,उनके प्रस्ताव के बाद अब हेमा असमंजस में पड़ गईं,इस बीच हेमा मालिनी की नजदीकियां धर्मेंद्र के साथ बढ़ने लगीं.

धर्मेंद्र पहले से शादीशुदा थे ऐसे में हेमा मालिनी को समझ नहीं आ रहा था कि वो क्या फैसला लें,फिल्म ‘दुल्हन’ की शूटिंग के दौरान जितेंद्र और हेमा ने साथ में काफी अच्छा समय बिताया,शूटिंग खत्म होने के बाद जितेंद्र अपने माता-पिता को लेकर हेमा के घर पहुंच गए,दोनों के घरवाले बात ही कर रहे थे कि तभी धर्मेंद्र का फोन आया,उन्होंने हेमा पर गुस्सा निकालते हुए कहा कि वो फैसला लेने से पहले उनसे मिलें,हेमा को परेशान देख जितेंद्र ने सोचा कि कहीं वो अपना फैसला ना बदल दें इसलिए उन्होंने उसी दिन मंदिर में शादी का फैसला किया.

हेमा इस बारे में सोच ही रही थीं कि जितेंद्र की गर्लफ्रेंड शोभा का फोन आया बस फिर क्या था इस फोन के बाद जितेंद्र से उनका रिश्ता खत्म हो गया.जितेंद्र ने अपनी गर्लफ्रेंड शोभा से शादी कर ली,अभी हेमा और धर्मेंद्र की प्रेमकहानी अधूरी थी,वहीं हेमा के पिता को ये रिश्ता बिलकुल मंजूर नहीं था,धर्मेंद्र का शादीशुदा होना उनके रिश्ते की बाधा बन रहा था दोनों अब खुलकर मीडिया के सामने अपने रिश्ते को कबूलने लगे थे,वहीं धर्मेंद्र अपनी पत्नी प्रकाश कौर के बारे में कभी कोई बात नहीं करते थे,हेमा से शादी से पहले ही धर्मेंद के चार बच्चे थे.

प्रकाश कौर, धर्मेंद्र को तलाक देने को तैयार नहीं थीं,आखिरकार हेमा और धर्मेंद्र ने वो फैसला लिया जो वो कभी नहीं लेना चाहते थे,दोनों ने इस्लाम धर्म कबूल कर शादी करने का फैसला किया,फिर दोनों ने चुपचाप निकाह कर लिया हालांकि बाद में धर्मेंद्र ने इससे इनकार किया था.दोस्तों जब इस शादी को लेकर के समाचार पत्रों ने धर्मेंद्र को बुरा भला कहा,और धर्मेंद्र के बच्चो को यानि सन्नी देओल और बॉबी देओल के बारे में गलत खबर छापना शुरू हुई तो

धर्मेन्द्र के बारे में प्रकाश कौर ने कहा- वो मेरी जिंदगी के पहले और आखिरी आदमी हैं,वो मेरे बच्चों के पिता हैं मैं उन्हें बहुत प्यार करती हूं और इज्जत भी करती हूं जो होना था हो गया मुझे समझ नहीं आता कि इसके लिए मुझे उन्हें जिम्मेदार ठहराना चाहिए या मेरी किस्मत को,वो मुझसे कितने भी दूर हों, लेकिन मैं जानती हूं कि जब भी मुझे उनकी जरूरत होगी वो मेरे पास होंगे,बॉबी देओल का हेमा पर हमला करने वाली घटना पर उन्होंने कहा, मैं ज्यादा पढ़ी- लिखी नहीं हूं और ना ही ज्यादा सुंदर हूं,लेकिन मेरे बच्चों के लिए मैं इस धरती पर सबसे बेहतरीन औरत हूं,वैसे ही मेरे बच्चे मेरे लिए दुनिया के बेस्ट बच्चे हैं मैंने उनकी परवरिश की है और मैं अच्छे से जानती हूं कि वह कभी किसी को नुकसान नहीं पहुंचा सकते.

इसी के साथ धर्मेंद्र की बेटी ईशा देओल ने अपने बचपन का दर्द सोशल मिडिया में बयान करते हुवे कहा की हमारे पापा हमे समय देते है और वे हमसे हमेशा मिलने आते है पर इस बात का हमे हमेशा ही अफ़सोस रहा की वे कभी रात में हमारे पास नहीं रुकते थे और उन्होंने कहा की मेरे पापा रात होते ही मेरी माँ और बहन और मुझे अकेला छोड़कर चले जाते थे और कभी कभी जब वे रात में घर पर रुक भी जाते तब हमे ये देखकर काफी हैरानो होती और हम अपनी माँ से पूछते की माँ क्या आज पापा यहीं रहेंगे हमारे साथ तब मेरा माँ का जवाब होता हां और तब हमे बेहद ख़ुशी होती थी.

SORCE

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *