Breaking News
Home / देश / ज्योतिरादित्य सिंधिया का ‘जय विलास पैलेस’ है बेहद भव्य और आलीशान, 4000 करोड़ रूपये है इसकी कीमत, देखिए फ़ोटोज़

ज्योतिरादित्य सिंधिया का ‘जय विलास पैलेस’ है बेहद भव्य और आलीशान, 4000 करोड़ रूपये है इसकी कीमत, देखिए फ़ोटोज़

हमारा भारत देश हमेशा सोने की चिड़िया कहे जाने वाला देश था,जिसमे कई प्रकार के राजा महाराजाओ ने अपने अपने समय में देश में अनगिनत काम किये,इन कामो में कई काम देश की प्रजा और देश की सुंदरता भरे हस्तनिर्मित कारीगरों के द्वारा बनाये गए राज भवन निर्माण थे,इन कामो की तुलना में आज की कारीगरी नाममात्रा की कारीगरी है,आज देश विदेशो से लाखो लोग इन पुराने राजप्रसाद(राजाओ के महल) को देखने के लिए आते है और उस वक़्त की हैरत अंगेज कारीगरी को देख कर आश्चर्यचकित रह जाते है,दोस्तों आज हम आप को देश के सबसे महंगे भवन के बारे में बताने जा रहे है जिसकी उस समय की तुलना में आज कई करोडो रुपयों में कीमत आँकी जाती है,भारत राजाओं और महाराजाओं का देश रहा है,यहां एक से बढ़कर एक प्रतापी और धनवान राजा हुए हैं, जिनकी संपत्ति आज के समय में करोड़-अरबों में है

इन्हीं राजाओं में से एक थे जयाजीराव सिंधिया, जो ग्वालियर रियासत के महाराजा थे,उन्होंने एतिहासिक जयविलास महल बनवाया था,आज इसी महल में केंद्रीय मंत्री रह चुके ज्योतिरादित्य सिंधिया रहते हैं,वह ग्वालियर रियासत के अंतिम महाराजा जीवाजीराव सिंधिया के पोते हैं.ज्योतिरादित्य सिंधिया जिस जयविलास महल में रहते हैं, वह 12 लाख वर्ग फीट से भी ज्यादा बड़ा है.

महाराजा जयाजीराव सिंधिया ने वर्ष 1874 में जयविलास महल बनवाया था,तब इसकी लागत एक करोड़ रुपये के आसपास थी, लेकिन आज इस शानदार और आलीशान महल की कीमत 4,000 करोड़ रुपये के आसपास है,इस महल में 400 से भी अधिक कमरे हैं.

जयविलास महल सिर्फ सिंधिया राजपरिवार का वर्तमान निवास स्थान ही नहीं, बल्कि एक भव्य संग्रहालय भी है,इस महल के 30 से अधिक कमरों को संग्रहालय बना दिया गया है,इस महल का ज्यादातर हिस्सा इटैलियन स्थापत्य से प्रभावित है,यहां इटली के अलावा फ्रांस, चीन और अन्य कई देशों की दुर्लभ कलाकृतियां भी मौजूद हैं.

जयविलास महल के संग्रहालय में दो बड़े-बड़े झूमर लगे हुए हैं, जिनका वजन हजारों टन है,ये झूमर निश्चित रूप से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं,कहते हैं कि इन झूमरों को टांगने से पहले 10 हाथियों को छत पर चढ़ा कर पहले छत की मजबूती मापी गई थी, उसके बाद इन्हें टांगा गया था,

जयविलास महल के संग्रहालय की एक और प्रसिद्ध चीज है, जो लोगों का मन मोह लेती है और वो है चांदी की रेल, जिसकी पटरियां डाइनिंग टेबल पर लगी हुई हैं और विशिष्ट दावतों में यह रेल खाना परोसती चलती है,भारतीय नागरिकों को यहां घूमने के लिए 150 रुपये प्रति व्यक्ति के हिसाब से टिकट लेना होता है,जबकि विदेशी नागरिकों के लिए टिकट की कीमत 800 रुपये है..

sorce

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *