जानिए कौन हैं वह संत जिन्‍होंने अनुष्‍का और विराट कोहली को नहीं पहचाना, बिटिया को दिया आशीर्वाद

दोस्तों विराट कोहली और पत्‍नी अनुष्‍का बेटी समेत भगवान कृष्ण की नगरी कहे जाने वाले मथुरा-वृंदावन पहुंचे। उन्होंने न केवल आश्रम में विजिट किया, बल्कि स्वामी जी से मुलाकात भी की। इससे बाद उन्‍होंने बाबा नीम करौली के आश्रम भी गए और वहां भी पूजा अर्चना की। हाल ही में भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्‍तान विराट कोहली पत्‍नी अनुष्‍का और बेटी वामिका के साथ वृंदावन पहुंचे थे। वहां उन्‍होंने स्वामी प्रेमानंद जी महाराज आश्रम में जाकर श्री ह‍ित प्रेमानंद गोविंद शरण जी महाराज के दर्शन किए। प्रेमानंद महाराज ने दोनों को आशीर्वाद दिया। साथ ही उनकी नन्‍ही बेटी को भी आशीष और दुलार दिया।

लेकिन इस मुलाकात की सबसे अनोखी बात यह थी कि उन्‍होंने मीडिया में छाए विराट कोहली और बॉलिवुड मशहूर एक्‍ट्रेस अनुष्‍का शंकर को नहीं पहचाना। सिलेब्र‍िटी दंपती के साथ आए लोगों ने उनका परिचय कराया भी तो बाबा ने कोई विशेष प्रतिक्रिया नहीं दी। सामान्‍य भक्‍तों की तरह उन्‍हें आशीर्वाद दिया। उनकी मुलाकात का यह वीडियो जब सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो लोगों को यह जानने की इच्‍छा हुई कि यह बाबा आखिर हैं कौन जो इन दोनों के परिचय से अनजान हैं। श्री ह‍ित प्रेमानंद गोविंद शरण जी महाराज का जीवन परिचय नेट पर वृंदावन रस महिमा नाम की साइट से मिला है। एक यूट्यूब चैनल भी है जिस पर बाबा के प्रवचन वगैरह चलते हैं। इसके करीब 3 लाख सब्‍सक्राबर्स भी हैं।

बाबा फिलहाल तो वृंदावन में रहते हैं लेकिन मूलत: वह कानपुर के सरसौल ब्‍लॉक के अखरी गांव के रहने वाले हैं। उनके पिता का नाम शंभू पांडेय है, माता का नाम राम देवी। जन्‍म के बाद महाराज को अनिरुद्ध कुमार पांडेय के नाम से जाना गया। बचपन से ही वह धार्मिक प्रवृत्ति के थे। बहुत कम उम्र में ही उन्‍होंने घर छोड़ दिया। वह पहले बनारस गए उसके बाद वृंदावन आ गए। यहां उन्‍हें उनके गुरु मिले। इनके गुरु का नाम एक जगह श्री गौरंगी शरण जी महाराज बताया गया है। गुरु से दीक्षा मिलने के बाद प्रेमानंद जी वृंदावन में ही रुक गए और वहीं आश्रम में रहते हैं।

Related Posts