देश का नाम रोशन करने के बाद नीरज चोपड़ा ने किया माँ बाप का एक और सपना पूरा ,पहली बार कराई हवाई सैर

जापान की राजधानी टोक्यो में हुए ओलंपिक खेलों में ऐतिहासिक गोल्ड मेडल जीतने वाले भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा भले ही अपनी उपलब्धि के बाद चर्चा का विषय बन गए हों,लेकिन हरियाणा का यह खिलाड़ी अभी भी जमीन से जुड़ा हुआ ही दिखाई देता है.ओलंपिक में करोड़ों भारतीयों की उम्मीदों पर खरा उतरने वाले नीरज का शनिवार की सुबह एक और सपना सच हो गया,जब उन्होंने पहली बार अपने माता-पिता को फ्लाइट की यात्रा करवाई.इस मौके पर उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर माता-पिता की तस्वीरें शेयर की हैं.

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘आज जिंदगी का एक सपना पूरा हुआ जब अपने मां-पापा को पहली बार फ्लाइट में बैठा पाया.सभी की दुआ और आशीर्वाद के लिए हमेशा आभारी रहूंगा.बता दें कि नीरज ने पिछले महीने ऐलान किया था तबीयत खराब होने और ट्रैवलिंग की वजह से उनकी ट्रेनिंग की शुरुआत नही हो पा रही है, जिसके चलते उनकी टीम ने इस साल का सीजन रोकने का निर्णय लिया है.उन्होंने साथ ही यह भी कहा था कि वे अगले साल यानी 2022 में एशियाई खेल और कॉमनवेल्थ गेम्स में भाग लेंगे.

टोक्यो ओलंपिक 2020 के गोल्डन बॉय नीरज चोपड़ा ने एक बार फिर अपने फैंस का दिल जीत लिया है. हालांकि इस बार इसका कारण खेल का मैदान नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर उनकी एक पोस्ट है. इस पोस्ट में नीरज ने अपने माता पिता के साथ फोटो शेयर की हैं जिसमें वो फ्लाइट में बैठे दिखाई दे रहे हैं. साथ ही नीरज ने अपनी पोस्ट में लिखा कि आज अपने माता-पिता को फ्लाइट पर बैठाकर उन्होंने अपनी जिंदगी का एक बहुत बड़ा सपना पूरा किया है. साथ ही नीरज ने इस मौके पर अपने फैंस और चाहने वालों का शुक्रिया भी अदा किया है.नीरज ने अपनी मां सरोज और पिता सतीश चोपड़ा के साथ इस मौके की तस्वीर इंस्टाग्राम पर पोस्ट करते हुए लिखा, “आज जिंदगी का एक सपना पूरा हुआ जब अपने मां-पापा को पहली बार फ्लाइट पर बैठा पाया. सभी की दुआ और आशिर्वाद के लिए हमेशा आभारी रहूंगा.” नीरज के इस पोस्ट को उनके फैंस काफी पसंद कर रहे हैं और अब तक इसे पांच लाख से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं.

 

टोक्यो में गोल्ड मेडल जीत रच दिया था इतिहास:-भारत के स्टार जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीत इतिहास रचा था. नीरज भारत के लिए ट्रैक एंड फील्ड के इवेंट में मेडल जीतने वाले पहले खिलाड़ी हैं. जेवलीन थ्रो केव फाइनल में नीरज चोपड़ा ने 87.58 मीटर दूर भाला फेंक गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया था. टोक्यो ओलंपिक में ये भारत का एकमात्र गोल्ड मेडल था. साथ ही भारत के ओलंपिक इतिहास में व्यक्तिगत इवेंट का ये केवल दूसरा गोल्ड मेडल है.

बता दें कि नीरज ने ओलंपिक में जैवलिन थ्रो के फाइनल इवेंट में 87.58 मीटर का थ्रो फेंककर ट्रैक एंड फील्ड में देश को पहला मेडल दिलाया था.नीरज भारत की तरफ से ओलंपिक खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाले महज दूसरे ही खिलाड़ी हैं.उनसे पहले 2008 के बीजिंग ओलंपिक खेलों में निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने गोल्ड मेडल पर निशाना साधा था.खास बात यह है कि नीरज चोपड़ा की ओलंपिक खेलों में गोल्ड मेडल जीतने की ऐतिहासिक उपलब्धि को वर्ल्ड एथलेटिक्स ने टोक्यो में ट्रैक एवं फील्ड के 10 जादुई पलों में शामिल किया था.

कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई खेल 2018 में खिताब जीतने के बाद ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचने वाले भाला फेंक के स्टार एथलीट नीरज चोपड़ा का लक्ष्य अब अगले साल अमेरिका में होने वाली वर्ल्ड एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीतना है.वर्ल्ड चैम्पियनशिप अमेरिका के इयुगेन में इस साल होनी थी, लेकिन कोविड-19 के कारण टोक्यो ओलंपिक को एक साल के लिए स्थगित किए जाने के बाद इसे 2022 में आयोजित करने का फैसला किया गया.अब इसका आयोजन 15 से 24 जुलाई 2022 के बीच होगा.चोपड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा.

मैं एशियाई खेल और कॉमनवेल्थ गेम्स में पहले ही गोल्ड मेडल जीत चुका हूं और अब मेरे पास ओलंपिक का गोल्ड मेडल भी है.इसलिए मेरा अगला लक्ष्य अगले साल वर्ल्ड चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीतना है.चोपड़ा ने सोमवार को टोक्यो में भाला फेंक के फाइनल में 87.58 मीटर भाला फेंककर गोल्ड मेडल जीता था। यह भारत का ओलंपिक में एथलेटिक्स में पहला मेडल है.वे ओलंपिक में इंडिविजुअल गोल्ड मेडल जीतने वाले दूसरे भारतीय खिलाड़ी बने.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *