Breaking News
Home / समाचार / अस्पताल में C.A एग्जाम की तैयारी कर रहा करुना संकर्मित युवक आई ए एस ऑफिसर बोले सफलता संयोग नहीं…

अस्पताल में C.A एग्जाम की तैयारी कर रहा करुना संकर्मित युवक आई ए एस ऑफिसर बोले सफलता संयोग नहीं…

देश में करो ना वायरस महामाई बुरी तरह से फैलती ही जा रही है जिसके कारण लाखों लोग की जान भी जा रही है और ऐसे में बुधवार को 3 लाख 50 हज़ार से भी अधिक करोना मरीज सामने आए.जबकि 3000 से ज्यादा लोगों की मौत भी हो गई करोना के कारण.करोना कि दूसरे चरण की लहर ने युवाओं को बड़ी संख्या मे अपनी चपेट में ले लिया है. इस दौरान कोविड-19 छात्रों और उम्मीदवारों की परीक्षाओं को भी स्थगित कर दिया गया है इसके बावजूद कुछ युवा अपने एग्जाम की तैयारी में भी जी जान से जुटे हुए हैं।

कोरोना से जंग में भविष्य की तैयारी….

आपको बता दें उड़ीसा के एक कोविड-हॉस्पिटल  में भर्ती एक मरीज को हॉस्पिटल के बेड पर ही सीए की परीक्षा की तैयारी करते देखा गया मोटी मोटी किताबें और पास में केलकुलेटर रखें युवक की इस फोटो को आईएएस अधिकारी विजय कुलंग ने अपने ट्विटर पर पोस्ट शेयर करके फोटो में एग्जाम की तैयारी कर रहे करोना मरीज ने फेस मास्क,चश्मा पहना हुआ है वह अपने पास पीपी किट में खड़े तीन लोगों से बात करता नजर आ रहा है.

अस्पताल में सीए की तैयारी करता करोना मरीज़….

अस्पताल में सीए की तैयारी करता करोना मरीज़..

इन दिनों सोशल मीडिया पर यह फोटो बहुत अधिक वायरल हो रही है.यूजर से युवक की लगन की खूब तारीफें भी कर रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार यह फोटो उस समय ली गई जब गंजम जिले के जिला मजिस्ट्रेट और कलेक्टर कुलंग ने बेरहामपुर के एमकेसीजी मेडिकल कॉलेज अस्पताल का दौरा किया.आईएएस अधिकारी विजय कुलंग में फोटो साझा करते हुए अस्पताल में सीए की तैयारी कर रहे शख्स की तारीफ भी की।

आईएएस अधिकारी ने पोस्ट में कहीं यह बात……

उन्होंने पोस्ट के कैप्शन में लिखा सफलता संयोग नहीं है आपको समर्पण की आवश्यकता पड़ती है. मैंने एक कोविड-19 अस्पताल का दौरा किया और इस शख्स को अस्पताल के बेड पर परीक्षा के लिए पढ़ाई करते पाया. फोटो सोशल मीडिया पर लोगों के लिए प्रेरणा का विषय बन रही है. सब खबर लिखे जाने तक आईएएस अधिकारी के पोस्ट पर 10,000 से अधिक लाइक आ चुके हैं कई लोगों ने करोना से जूझते हुए सीए परीक्षा की तैयारी के लिए युवक के कठिन परिश्रम की तारीफ की.

यूजर ने उठाया बैड की कमी का मुद्दा…

कुछ तो सोशल मीडिया यूजर्स ने अस्पतालों में बैड की कमी का मुद्दा भी उठाया और सुझाव भी दिए उन्होंने अस्पताल के बिस्तर को ऐसे समय में अधिक गंभीर रोगियों के लिए बचाया जा सकता है.ऐसे समय में जब देश के कई हिस्सों में अस्पताल बेड ऑफ सीजन और दवाई की कमी से जूझ रहे हैं एक यूजर ने लिखा यह अच्छा है कि वह एग्जाम की तैयारी कर रहा है और उम्मीद नहीं खोई है लेकिन उन्हें घर में क्वारंटाइन होने के लिए कहां जाना चाहिए और बिस्तर किसी अन्य गंभीर व्यक्ति को दिया जाना चाहिए।

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *