शिखर धवन की सफलता और लव स्टोरी का सफर किसने दिया गब्बर का साथ कब हुई शादी

भारतीय टीम में से गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग क्रिकेट को अलविदा कहने के पश्चात टीम इंडिया के ओपनर कमान शिखर धवन के हाथ आई.शिखर धवन ने ओपनर के बतौर तेज शुरुआत के साथ बाकी खिलाड़ियों के खेलने का अंदाज बदल दिया.इसी कारण क्रिकेट दर्शक शिखर धवन को गब्बर के नाम से पुकारते हैं.

The journey of Shikhar Dhawan's success and love story, who gave Gabbar's support, when did they get married?
The journey of Shikhar Dhawan’s success and love story, who gave Gabbar’s support, when did they get married?

जानकारी के लिए बता दें शिखर धवन का जन्म 5 दिसंबर 1985 को दिल्ली में पंजाबी परिवार में हुआ था.गब्बर के पिता का नाम महेंद्र पाल धवन और मां का नाम सुनैना धवन है.शिखर धवन की एक छोटी बहन भी है. उनका नाम श्रेष्ठा धवन है. शिखर धवन के एक बेटा और दो बेटी भी है शिखर धवन की पत्नी का नाम आयशा मुखर्जी है. जो पेशे से किक बॉक्सर रह चुकी हैं लेकिन शादी के 9 वर्ष बाद 2021 में शिखर धवन और आयशा मुखर्जी एक दूसरे से अलग हो गए.

The journey of Shikhar Dhawan's success and love story, who gave Gabbar's support, when did they get married?
The journey of Shikhar Dhawan’s success and love story, who gave Gabbar’s support, when did they get married?

आपको बता दें पंजाबी परिवार में जन्मे शिखर धवन क्रिकेट के साथ-साथ एक किक बॉक्सर हसीना की अदाओ पर क्लीन बोल्ड हो गए यह हसीना कोई और नहीं मेलबोर्न में रहने वाली आयशा मुखर्जी हैं. दोनों की मुलाकात टीम इंडिया के स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने करवाई थी.आपको बता दें दोनों एक दूसरे को डेट करने के बाद आयशा और शिखर धवन ने वर्ष 2009 में सगाई कर ली थी.सगाई के 3 वर्ष बाद यह दोनों शादी के बंधन में बंध गए जानकारी के अनुसार शिखर धवन की पत्नी 12 साल बड़ी है.शिखर धवन ने वर्ष 2012 में आयशा मुखर्जी से शादी की थी उसके 2 साल बाद 2014 में बेटे का जन्म हुआ जिसका नाम जोरावर रखा.आयशा मुखर्जी शादी से पहले उनकी दो बेटियां थी जिनका नाम आलिया और रिया है.इन दोनों को शिखर धवन ने गोद लिया है.आपको बता दें टीम इंडिया के धाकड़ बल्लेबाज शिखर धवन ने सेंट पॉल सीनियर सेकेंडरी पब्लिक स्कूल दिल्ली से अपनी पढ़ाई मुकम्मल की थी. और भारतीय टीम का यह खिलाड़ी अपने पढ़ाई को 12वीं तक की पूरा कर पाए. क्रिकेट में ज्यादा समय देने के बाद शिखर धवन को आगे पढ़ाई करने का समय नहीं मिला.

Related Posts