अपनी ही रिश्तेदार को दिल दे बैठे थे Virender Sehwag, प्यार को पाने के लिए बेलने पड़े पापड़

दोस्तों भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग को क्रिकेट से संन्यास लिए भले ही अर्सा हो गया हो, लेकिन फैंस के बीच आज भी वे खासे लोकप्रिय हैं। वे सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहते हैं। अक्सर ट्विटर पर अपनी पोस्ट के कारण मीडिया की सुर्खियां भी बनते हैं। इन सबके बीच वे अपने परिवार को भी समय देना नहीं भूलते हैं। हालांकि, यह शायद कम ही लोगों को पता हो कि मैदान पर गेंदबाजों के छक्के छुड़ाने वाला यह बल्लेबाज प्यार की पिच पर आरती की पहली गेंद पर ही बोल्ड हो गया था। यही नहीं, आरती को अपना हमसफर बनाने के लिए उन्हें 5 साल तक परिजनों के साथ ‘जंग’ भी लड़नी पड़ी थी। सहवाग की आरती अहलावत से पहली मुलाकात उनके चचेरे भाई की शादी हुई थी। तब वे महज 7 साल और आरती 5 साल की थीं। दोनों तभी से दोस्त बन गए। 21 साल की उम्र में उन्होंने आरती को प्रपोज किया। आरती ने झट ही हां कह दी। इसके बाद शुरू हुई शादी के लिए परिवार वालों से जंग।

सहवाग और आरती दोनों ही आपस में रिश्तेदार भी हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उनके परिवार में नजदीकी रिश्तेदारी में शादियां नहीं होतीं। उनकी शादी के लिए भी माता-पिता तैयार नहीं थे। आरती की बुआ यानी उनके पापा की बहन की शादी सहवाग के चचेरे भाई से हुई थी। इस हिसाब से सहवाग और आरती की बुआ देवर-भाभी हुए। शादी से पहले आरती उनकी भतीजी लगती थीं। ऐसे में दोनों की शादी के लिए परिवार तैयार नहीं था। हालांकि, सहवाग की जिद और उनके प्यार के कारण परिवार वालों को झुकना पड़ा और प्रपोज करने के करीब तीन साल बाद 22 अप्रैल 2004 को दोनों शादी के बंधन में बंध गए। सहवाग अब दो बच्चों के पिता हैं।

सहवाग टेस्ट मैच में तिहरा शतक जड़ने वाले पहले भारतीय हैं। वे डॉन ब्रैडमैन और ब्रायन लारा के बाद दुनिया के तीसरे बल्लेबाज हैं, जो टेस्ट क्रिकेट में दो बार 300 या उससे ज्यादा रन का आंकड़ा पार कर चुके हैं। मुल्तान के सुल्तान और नजफगढ़ के नवाब के निकनेम से अपने फैंस के बीच प्रसिद्ध सहवाग के बारे में एक बार विवियन रिचर्ड्स ने कहा था, ‘वीरेंद्र सहवाग ऐसे भारतीय बल्लेबाज हैं, जिनसे दुनिया का हर गेंदबाज खौफ खाता है।

Related Posts